भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नाम बिना तन जात बहो रे / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नाम बिना तन जात बहो रे।
कर सतसंग साद गुरु सेवा सुरति समार निहार करो रे।
काल-कर्म को झगरा भारी आठ पहर हुसयार रहो रे।
जो जग जाल अनुजनमहिं सुरजे कर्मभार भवसार गहो रे।
जूड़ी खबर कर खेलो खेला राम नाम विश्वास करो रे।