भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

नाल / जया जादवानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक

न मैं गर्भ से बाहर आई
न नाल कटी
न बड़ी हुई कभी
धीरे-धीरे मरते हुए
गर्भ के भीतर
सोचती हूं कि
काश! किसी तरह
किसी योनि से
अपना सपना बाहर फेंक सकती!

दो

जहां भी जाती हूं
खून से लिथड़ी नाल
चली आती है
हे ईश्वर
यह देह कैसी धरती है
एक काटी नहीं कि
दूसरी निकल रही है
मेरे भीतर से...