भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ना तो मैं हूँ, ना ही मेरी परछाई है / सूफ़ी सुरेन्द्र चतुर्वेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ना तो मैं हूँ, ना ही मेरी परछाई है ।
मुझमें कैसी काली रात उतर आई है ।

चाँद, सितारे डर कर जाने कहाँ छिप गए,
घर की छत पर मैं हूँ मेरी तन्हाई है ।

सन्नाटों के ख़ाली कुए क़ैद हैं मुझमें,
बाहर चारों और मेरे अन्धी खाई है ।

पीछे-पीछे सच मेरा चलता है पैदल,
आगे-आगे दौड़ने वाली रुसवाई है ।

बदन के अन्दर बेलिबास मेरा ज़मीर है,
बदन के बाहर पूरा शहर तमाशाई है ।

ढलने को है उम्मीदों की शाम भी अब तो,
औ' कम होती जाती मेरी बीनाई है ।

नापेगा कैसे कोई मेरे वजूद को,
ऊँचाई से ज़्यादा मेरी गहराई है ।