भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निकलो नऽ ओ बेटी स्याम-सुन्दरिया / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

निकलो नऽ ओ बेटी स्याम-सुन्दरिया
तोरो वरअ् आयो परबल देशअ् मअ्
कसीज निकलू मैया यशोदा
बाबुलजी ठोड़े द्वारअ् मअ्
डाल लेजो घूँघट ओढ़ लेजो अंचल
ले लेजो निर्मल झकोर रे।