भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निज़ाम-ए-बसत ओ कुशाद-ए-मानी सँवारते हैं / अमीर हम्ज़ा साक़िब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

निज़ाम-ए-बसत ओ कुशाद-ए-मानी सँवारते हैं
हम अपने शेरों में तेरा पैकर उतारते हैं

अजब तिलिस्मी-फ़िज़ा है सारी बालाएँ चुप हैं
ये किस बयाबाँ में रात दिन हम गुज़ारते हैं

ग़ुबार-ए-दुनिया में गुम है जब से सवार-ए-वहशत
अतश-अतश दश्त ओ कोह ओ दरिया पुकारते हैं

मुसाफ़िरान-ए-गुमाँ रहे क्यूँ कमर-ख़मीदा
चलो ये पुश्तारा-ए-तमन्ना उतारते ळैं

जबीन-ए-अहल-ए-ग़रज़ पे कोई मुकाल्मा क्या
जहाँ तहाँ हाजतों की झोली पसारते हैं