भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निदा-ए-तख्लीक़ / हसन 'नईम'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुकूत-ए-नीम शबी में किसी ने दी आवाज़
‘नईम’ दिल से निकालो न ख़ार-हा-ए-ख़लिश
सुकून है तो इसी इजि़्तराब में कुछ है
गुज़ार-ए-शौक़ में सोज़-ए-तलाश में कुछ है
जुनूँ के जुमला मराहिल से तुम गुज़र देखो
जमाल-ए-फिक्र से आबाद है दिल-ए-वीराँ
शरार-ए-दिल से मुनव्वर जहान-ए-फ़र्दा है
ये कौन मुझ से मुख़ातिब है इतनी क़ुर्बत से
ये किस ने ज़ख़्म को दस्त-ए-शिफ़ा से छेड़ा है
इसी ख़याल में गुम था कि फिर सदाई आई
कमाल-ए-अर्ज़-ए-सुख़न जिस को तुम समझ बैठे
वो इज्ज़-ए-फिक्ऱ है इक़रार-ए-बे-ज़बानी है
निकल के आओ ज़रा कूचा-ए-ख़बर देखो
हर एक चाक-गरेबाँ हर एक गर्द-आलूद
न क़त्ल-गह से हिरासाँ न संगसारों से
कि एक उम्र गुज़रती है जुस्तुजू करते
नज़र को तेज़ हक़ीक़त को रू-ब-रू करते
बस एक तुम कि तुम्हारे क़दम नहीं उठते
क़ुयूद-ए-कोह से आवाज़ दे रहे हैं तुम्हें
पयम्बरों के मक़ामात दे रहे हैं तुम्हें
रूख़-ए-सहर से हटाओ रिदा-ए-शब लिल्लाह
अज़ाब-ए-नार से गुज़रो कि तौफ़-ए-नूर करो
जिगर के दाग़ से रक्खो हरीम-ए-जाँ रौशन
शुआ-ए-दर्द को चूमो गले लगाओ ‘नईम’
सर-ए-वजूद झुकाए सुना किया सब कुछ
तमाम जिस्म था गोया निशाना-ए-आवाज़
तमाम रूह थी सामे तमाम ग़म बेदार
सुकूत-ए-शब में
सदा गूँजती रही पहरों