भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निराला का बसंत / दीपाली अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 तुम्हारी बातें जैसे 'जूही, नरगिस, बेला' खिलें',
तुम्हारी मौजूदगी 'वनबेला' से तारतम्य है,
तुम्हारी छुअन कि लगे 'शिशिर' का आगमन,
तुम्हारी याद मानो 'सीकर' की महक
और तुम ख़ुद ?
लगता है कि 'निराला' का 'बसंत' आ गया