भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निराशा / निमेष निखिल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


के भो बताऊ गाथमा उदास देख्छु म
औँसीको रातझैँ किन हतास देख्छु म
बर्सेका नीरले किन भिजे कठै नयन
आशा उडाई तर्कने बतास देख्छु म।