भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निर्गुण गीत / सरोज सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमरे अंचरवा पs जिनगी के दाग बा
छोड़sवले नाही छूटत यार बलम जी
जवने रंगवा के... गsरिया रंगवलs
ओही रंगे रंगब... संसार बलम जी
जिनगी के चउंध से... मनवा उबियाईल
नाही केहू तोरे नियर.. दिलदार बलम जी
जोबन के जर में... लागsता दियका
ढहल उमीरिया मांगे... उद्धार बलम जी
सगरो उठी सोर... जब आई बरियात
लोराईल नेहिया लिपी... घर-दुआर बलम जी
बिरथा गवsवनी... कुछु ना कमsवनी
मांगी नेगचार देब... साँस उधार बलम जी
बीदाई के बारी... तू भेजिहs असवारी
दुल्हिन अस करब... .सिंगार बलम जी