भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निर्द्वन्द्व / मधु शर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं छू कर पाना चाहती हूँ

ठोस इस अंधकार में

रूप, रस और गंध के बरअक्स

एक स्थान

जिसके समय में

कुहनी टेक कर बैठे हैं सपने

और कोई आधार नहीं

उन्हें उठा देने का ।