भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निर्धारित निर्वासन / अमित कल्ला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

स्मृतियों की
खड़खड़ाहटों के पार
बूंद - बूंद
संवित विकल्प

कैसा वह
निर्धारित निर्वासन
स्वप्न से स्वप्न ,
काया से काया ,
भव से भव

एकाएक
मानों
किसी
टूटते तारे का पीछा करती
रेखा की पकड ।