भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निष्ठुरता / जगन्नाथप्रसाद 'मिलिंद'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक अनंत व्यथा जीवन में
एक अभाव हृदय में,
सब खो, पाया मैंने यह वर
तेरे चरम प्रणय में।
ओ निष्ठुरते, दूर लक्ष्य की-
दुर्लभते, तू मेरी!
संकट-स्नेही असफल उर को
प्रिय केवल छवि तेरी!
ज्ञानी हँसें, निराशा ही पागल प्राणों की आशा है,
सर्वनाश-ज्वाला में जब आत्मार्पण की अभिलाषा है!