भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नींद आती नहीं कम-बख़्त दिवानी आ जा / रंगीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नींद आती नहीं कम-बख़्त दिवानी आ जा
अपनी बीती कोई कह आज कहानी आ जा

हाथ पर तेरे मूए किस के है छल्ले का दाग़
दी है ये किस ने तुझे अपनी निशानी आ जा

जब वो रूठा था तभी तू ने मिला मुझ से दिया
मैं ने कुछ क़द्र तिरी हाए न जानी आ जा

सब्ज़-रंग अब के है नौ-रोज़ का इस सर की क़सम
जोड़ा ला कर तू पिन्हावे मुझे धानी आ जा

बाल माथे के जो डोरे से सिए हैं तू ने
शक्ल लगती है तिरी आज डरानी आ जा

ग़म है रंगीं को न मेरा यूँही उस के पीछे
मुफ़्त बर्बाद हुई मेरी जवानी आ जा