भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

नींद न आने की स्थिति में लिखी कविता: दो / शरद कोकास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
नींद को कहीं
नज़र न लग गई हो
चचा ग़ालिब की
उन्हें मौत का ख़ौफ था
हमें ज़िन्दगी का है
 
आश्चर्य !
पीने के बावज़ूद
उन्हें नींद नहीं आती थी
 
आसमान की ओर देखते हुए
कोशिश में हूँ
बूझने की
चचा ग़ालिब ने यह शेर
शादी से पहले लिखा था
या बाद में।