भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नींबू खूब सजाए / दिविक रमेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नींबू मेरा खूब सयाना
उस पर नीबू आए।
हर टहनी ने देखो भैया
नींबू खूब सजाए।

अभी तो छोटे ओर हरे हैं
प्यारे-प्यारे नींबू।
पकने पर ही हम तोड़ेंगे
अपने प्यारे नींबू।

पर थोड़ा शैतान भी है न
नींबू का यह पौधा!
चुभा के कांटे हंसता है न
नींबू का यह पौधा!