भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नीकी घनी गुननारि निहारि नेवारि / प्रवीणराय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नीकी घनी गुननारि निहारि नेवारि तऊ अँखियाँ ललचाती।
जान अजानन जोरित दीठि बसीठि के ठौरन औरन हाती॥
आतुरता पिय के जिय की लखि प्यार 'प्रबीन' वहै रसमाती।
ज्यों ज्यों कछू न बसति गोपाल की त्यों-त्यों फिरै घर में मुसकाती।