भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नीन / मोहन पुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपणा परायां री
ओळ्यूं
घोड़ी चढ़नै
बण जावै है
बीन...
रात रा
अन्धारा में
ऊजळी किरणां रो टमको
नीं जाणै कद
चुण जावै
नीन...।