भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नील-कमल-ताल पर उतर गए चीलों के झुण्ड / धनंजय सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुबह-सुबह
नील-कमल-ताल पर
उतर गए चीलों के झुण्ड ।

अभी-अभी नावों ने
खोले थे पाल मगर
बह निकली दक्षिणी हवाएँ
रह-रह कर भयावना
अट्टहास करती हैं
खोल रही यक्षिणी जटाएँ

रक्त–माँस–मज्जा की
ज्वलन-गन्ध उगल रहे
धूमायित ज्वाल भरे कुण्ड ।

हंसों ने पंख खोल
लम्बी की गरदनें
पंक्तिबद्ध काफ़िले उड़े
मानसरोवर-तट पर
दीर्घ मौन आ बैठा
कलरव के मेले उजड़े

प्रवचन की मुद्रा में
श्वेत बकुल आ बैठे
मस्तक पर धार कर त्रिपुण्ड ।