भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नूनू बाबू सिनी सें / अमरेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अरे बुतरुआ पिहनें चश्मा
होय वाला छौ नया करिश्मा
जे नै चाहै पढ़ै-लिखै लेॅ
तहियो ऊँचे-ऊँच चढ़ै लेॅ
कोय मायने में ज्ञान नै कम
पन्नीये रँ बुद्धि चमचम
ओकरो लेॅ छै अवसर चानी
है ले एक सौ एक पिहानी
अरे बुतरुआ इन्टु-पिन्टु
आनलेॅ छियौ नया निघण्टु
घोकें, दुसरौ केॅ घोकबाव
अबकी नै छोड़ना छै दाव
तहूँ बहावें ज्ञान रोॅ बोहोॅ
पंडित-ज्ञानी मानतौ लोहोॅ ।