भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नेह अमिरित झरित जो कबो / रामरक्षा मिश्र विमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नेह अमिरित झरित जो कबो
जीव हुलसित फरित जो कबो

जोत जिनिगी में जगमग रहित
मन अन्हरिया हटित जो कबो

लोर काहें नयन से बहित
ई दरदिया घटित जो कबो

आसरा मोर होइत सफल
भास तनिको मिलित जो कबो

पूछितीं अर्थ आनंद के
पट 'विमल' के खुलित जो कबो