भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

न्याय / विजय चोरमारे / टीकम शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसने हटा दी है
पट्टी
न्यायदेवता के आँखों पर से
और बाँध दी है
न्यायाधीश की आँखों पर?

क्या डर नहीं बिलकुल
न्यायालय की अवमानना का?

जब दलितों के घर जलाए गए
तब
गाँव की बिजली गुल हो गई थी
आग लगाने वालों के चेहरे नहीं पहचान सका कोई भी
परिणाम स्वरूप,
बिना ठोस सबूतों के
छूट गए सभी निर्दोष!

क्या ये भी मान लें,
पकड़े गए लोगों के हाथों से
मिटटी के तेल की गंध नहीं आई
घर जलाए गए थे यह तो सच है ना?

घर नहीं जलाए गए तो फिर
जो जला था वह दरअसल
क्या था?
और कैसे लगी थी आग?

जवाब का इन्तज़ार करना होगा...
तब तक

पट्टी रहने दीजिये न्यायाधीश की ही आँखों पर!
न्यायालय की न हो जाए अवमानना
कम से कम इसलिए कोई घर तो नहीं जलाएगा!

मूल मराठी से अनुवाद — टीकम शेखावत