भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

न कहो तुम भी कुछ न हम बोलें / ज़फ़र ताबिश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

न कहो तुम भी कुछ न हम बोलें
आओ ख़ामोशियों के लब खोलें

बस्तियाँ हम ख़ुद ही जला आए
किसी बरगद के साए में सो लें

कुछ नए रंग सामनें आएँ
आ कई रंग साथ में घोलें

ज़र्द मंज़र अजीब सन्नाटे
खिड़कियाँ क्यूँ घरों की हम खोलें

रास्ते सहल हैं मगर ‘ताबिश’
कौन है साथ जिस के हम हो लें