भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

न मुझसे कह कि चमन में बहार आई है / सौदा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

न मुझसे कह कि चमन में बहार आई है
ये मुर्ग़े-कुश्तनी[1] कब क़ाबिले-रिहाई है

असर किया तेरे दिल में मुझ अश्क ने[2] तो क्या
डुबा के ख़ल्क़[3] को किश्ती मिरी तिराई है

तिरे निकाले से तुझ घर से कौन जाता है!
वही तो जायेगा प्यारे कि जिसकी आई है

ग़ुरूरे-तक़वा से[4] कितने थे शैख़ जी सरकश[5]
पर अब अमामा[6] ने गर्दन तनिक नवाई है

गए थे आप ख़ुदावंद सैरे-बाग़ कि गुल
जहाँ खिले है वहाँ बू-ए-किब्रियाई[7] है

करे हैं दर पे तिरे शैख़ो-बरहमन सज्दा
बुतों की हुस्नो-अदा तेरे घर की ख़ुदाई है

तने-गुदाज़[8] में दिल क्योंके[9] तैं[10] रखा 'सौदा'
ये आग पानी में किस सेहर[11] से छिपाई है


शब्दार्थ
  1. मारे जाने लायक़ पक्षी
  2. मेरे आँसुओं ने
  3. जनता, सृष्टि
  4. धार्मिकता के घमंड से
  5. उद्दंड
  6. पगड़ी
  7. ख़ुदाई की बू
  8. पिघलता बदन
  9. क्योंकर
  10. तू
  11. जादू