भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

न शिकायतें न गिला करे / अमजद इस्लाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 न शिकायतें न गिला करे
कोई ऐसा शख्स हुआ करे

जो मेरे लिए ही सजा करे
मुझ ही से बातें किया करे

कभी रोये जाये वो बेपनाह
कभी बेतहाशा उदास हो

कभी चुपके चुपके दबे क़दम
मेरे पीछे आ कर हंसा करे

मेरी कुर्बतें, मेरी चाहतें
कोई याद करे क़दम क़दम

मैं तवील सफ़र में हूँ अगर
मेरी वापसी की दुआ करे