भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

न साण खणी आएं न साण खणी वेदें / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

न साण खणी आएं न साण खणी वेदें
तूं ख़ाली हथें वेंदें इहो यादि रखजांइ

खाई खु़श थी ॿियनि खे खाराए
पाण ढकी ऐं ॿियनि खे ढकाए
हीअ देही मिली अथई धर्म जे लाइ
तूं दानी बणी वेंदें तूं नेकी खणी वेंदें
तूं ख़ाली हथें वेंदें इहो यादि रखजांइ

केॾो कठो कयो क़ारूनि ख़ज़ानो
दमिड़ी न खंयाईं थियो रुंअदे रवानो
हीअ दुनिया अथई वॾो धोखो
मानुष जनम जो मिलियो थई मौक़ो
तूं ज्ञानी बणजी वेंदें तूं ध्यानी बणजी वेंदें
तूं ख़ाली हथें वेंदें इहो यादि रखजांइ