भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पंछी-एक / हरि शंकर आचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खुलै आभै मांय
मुगत उडतो पंछी
सै सीमावां
सै बंदिसां नैं तोड़’र
पूगावै
सांति अर भायलापणै रो सनेसो
जगत रै छोटै सूं छोटै जीव तांई।
आपरी अठखेल्यां रै मायाजाळ मांय
मिनख रै बणायोड़ी अबखायां सूं
डर्यै बिना पूगावै,
भेळप रो सनेसो
दसूं दिसावां री सांतरी जगावां तांई।