भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पण / धनेश कोठारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ग्वथनी का गौं मा बल

सुबेर त होंदी च/ पण

पाळु नि उबौन्दु

 

ग्वथनी का गौं मा बल

घाम त औंद च/ पण

ठिंणी नि जांदी

 

ग्वथनी का गौं मा बल

मंगारु त पगळ्यूं च/ पण

तीस नि हबरान्दी

 

ग्वथनी का गौं मा बल

उंदार त सौंगि च/ पण

स्या उकाळ नि चड़्येन्दी

 

ग्वथनी का गौं मा बल

 

ग्वथनी का गौं मा बल

ब्याळी बसायत च/ पण

आज-भोळ नि रैंद

 

ग्वथनी का गौं मा बल

सतीर काळी ह्वईं छन/ पण

चुलखान्दौं आग नि होंद

 

ग्वथनी का गौं मा बल

दौ-मौ नि बिसर्दू बाद्दी/ पण

बादिण हुंगरा नि लांदी

 

ग्वथनी का गौं मा बल

इस्कुलै चिणैं त ह्वईं च/ पण

बाराखड़ी लुकि जांदी

 

ग्वथनी का गौं मा बल

स्याळ त गुणि माथमि दिखेंदा/ पण

रज्जा जोगी जोगड़ा ह्वेजांदा

 

ग्वथनी का गौं मा बल

सौब धाणि त च/ पण

कुछ कत्त नि चितेंद।