भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

पनघट पे न छेड़ो श्याम छैला / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

पनघट पे न छेड़ो श्याम छैला
नैना भरों के भरों घैला। पनघट पे...
भर के गगरिया हमें घर जानें
मोहन न रोको हमारी गैला। पनघट पे...
काम तुम्हारो है माखन चुरावो,
तुम हो जनम के चुटकैला। पनघट पे...
एही पनघट पे हो गई दिवानी,
लागी नजर कौन जाऊँ गैला। पनघट पे...
पिया सखी भई रूप दिवानी
नाजा रे छलिया छलबैला। पनघट पे...