भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पयामे-सुलह / त्रिलोकचन्‍द महरूम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लाई पैग़ाम मौजे-बादे-बहार
कि हुई ख़त्‍म शोरिशे - कश्‍मीर
                  दिल हुए शाद अम्‍न केशों के
                  है यह गांधी के ख़्वाब की ताबीर
सुलहजोई में अम्‍नकोशी में
काश होती न इस क़दर ताख़ीर
                 ताकि होता न इस इस क़दर नुक़्साँ
                  और होती न दहर में तश्‍हीर
बच गये होते नौजवां कितने
जिनको मरवा दिया बसर्फे-कसीर
                  ज़िक्र क्‍या उसका, जो हुआ सो हुआ
                  उन बेचारों की थी यही तक़दीर
काम लें अब ज़रा तहम्‍मुल से
दोनों मुल्‍कों के साहबे-तदबीर
                  दिल से तख़रीब का ख़याल हो दूर
                  और हो जायें माइले-तामीर
रंग इस में ख़ुलूस का भर दें
खिंच रही है जो अम्‍न की तस्‍वीर
                  अहदो-पैमां हों वक़्फे-इस्‍तक़लाल
                  उनकी तकमील में नहीं तक़्सीर
अहले-अख़बार हों वफ़ा आमोज़
क़ातए-दोस्‍ती न हो तहरीर
                  आमतुन्‍नास हों इधर न उधर
                  किसी उन्‍वान इश्तिआल पज़ीर
अलमे-आश्‍ती बलन्‍द रहे
अन्‍दरूने-नियाम हो शमशीर
                  हर दो जानिब की बेटियाँ-बहनें
                  हैं जो मज़बूरे-क़ैदे-बेज़ंजीर
जिस क़दर जल्‍द हो रिहा हो जाएँ
उनका क्‍या जुर्म ? क्‍यों रहें वह असीर
                  है तक़ाज़ा यही शराफ़त का
                  दोनों मुल्‍क़ों की इसमें हैं तौक़ीर
रहें आबाद हिन्‍दो-पाकिस्‍ताँ
तेरी रहमत से अय ख़ुदाए-क़दीर
                  ग़रज परवाज़ हो चुका महरूम
                  अब कहें कुछ ‘हफ़ीज़’ और ‘तासीर’