भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

परवरिश / श्याम किशोर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बनाते-बनाते
तुमसे गिर गया था चुटकी भर आटा फ़र्श पर
उसे चींटियाँ अपने सिरों पर उठा ले गई हैं

खाते-खाते
तुम्हारे हाथ से छूट गया था एक टुकड़ा
उसे चूहा अपने बिल में खींच ले गया है

रोज़ जितना अंश छूट जाता है
तुम्हारी थाली में
वह भी बेकार नहीं जाता है
उसके बाद भी
जो बच रहता है
वह धरती में मिल जाता है

जितना लेती है
उससे कई गुना
वापस कर देती है हमें धरती ।