भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

परहेज / किरण अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं सांस लेना चाहती हूं करवट बदलती
इस दुनिया में
मैं भी सदियों की कैद से मुक्त हो
खोल देना चाहती हूं
अपने पंख
मैं उन आदमियों की स्याह बस्तियों में
जाना चाहती हूं
जिनकी परछाई से भी दूर रहे
हमारे पुरखे
जो खेतों में हमारे लिए
पैदा करते रहे अनाज
जो हमारे घर-बाहर को
साफ-सुथरा बनाते रहे
जो हमारे देवी-देवताओं को
तराशते रहे हमारे लिए
लेकिन जिनके मुंह पर बंद होते रहे
हमारे मंदिरों के पट
मैं उनके पास बैठ उनसे
पूछना चाहती हूं
उन्हें तो मेरी परछाई से
कोई परहेज नहीं...?