भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पर्यावरण / प्रदीप प्रभात

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पर्यावरण कहै छौं भाय
प्रणय-स्पर्श हरदम बॉटोॅ।
कहद्यै ऑक्सीजन हाथ जोड़ी
गाछ-विरीछ काटयोॅ होथौं कोड़ी।
गाछ-विरीछ के आलिंगन सेॅ
सीखोॅ प्यार निभाय लेॅ।
गाछ-विरीछ सेॅ सीखोॅ,
आन्धी-अन्हर सेॅ टकराय लेॅ।
जीवन केॅ नवप्राण दै छै
हरा-भरा धरती रोॅ जंगल।
जड़ी-बुटी, आरो फल-फूल,
करै छै वक्त पर खबरोॅ मंगल।
नै केकरौं सेॅ झगड़ा,
हिली-मिली केॅ छै रहै।
प्यार सेॅ रहै लेॅ सिखाबै छै
सबकेॅ ई संदेश दै छै।