भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

पर-स्त्री / सुदर्शन प्रियदर्शिनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दूसरी औरत के तिलस्म
में फिसलते रहे तुम्हारे
हाथ कान नाक आंखें
उम्र भर...

अब वही हाथ
पांव नाक और आंख मुझे
छुएं?
मुझे जूठे बर्तनों से
घिन आती है...!