भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पर प्रेम की इस दिल में लगी घात न होती / बिन्दु जी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पर प्रेम की इस दिल में लगी घात न होती।
तो सच है कि मोहन से मुलाक़ात न होती।
सरकार नजराने में देता मैं भला क्या।
कुछ पास गुनाहों की सौगात न होती।
क्या होते मुखातिब वो भला मेरी तरफ को।
आहों में कोशिश की जो करामात न होती।
बस दर्दे मुहब्बत का यह सारा तमाशा।
ये दिल में न होता तो कोई बात न होती।
दृग ‘बिन्दु’ बताते हैं कि घनश्याम है दिल में।
घनश्याम न होते तो ये बरसात न होती।