भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पसीना तक नहीं आता, तो ऐसी ख़ुश्क तौबा क्या / यगाना चंगेज़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पसीना तक नहीं आता, तो ऐसी ख़ुश्क तौबा क्या?

नदामत वो कि दुस्मन को तरस आ जाये दुश्मन पर॥


उस तरफ़ सात आसमाँ और इस तरफ़ इक नातवाँ।

तुमने करवट तक न ली दुनिया को बरहम देख कर॥


खु़दा जाने अज़ल को पहले किस पर रहम आयेगा?

गिरफ़्तारे क़फ़स पर या गिरफ़्तारे नशेमन पर॥