भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पहचान औरत की / भारती पंडित

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


उसे छूने दो उम्मीदों का अनंत आसमान
वह उड़ना चाहती है.
उसे दो अभिव्यक्ति की स्वतन्त्रता
वह बोलना चाहती है.
उसे दो विश्वास का संबल
वह कुछ कर गुजरना चाहती है .
उसे झांकने दो अंतर्मन में
वह स्वयं से साक्षात्कार करना चाहती है.
उसे लहराने दो सफलता के परचम
क्यूंकि केवल माँ ,पत्नी,बेटी ही नहीं
वह एक पहचाना नाम बनना चाहती है.