भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पहला हिमपात / आन्द्रेय वाज़्नेसेंस्की

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक लड़की टेलिफ़ोन बूथ में ऐंठ रही है
लिपटी हुई अपने नाकाफ़ी कोट में,
उसका चेहरा आँसू के धब्बों
और लिपिस्टिक से पुता हुआ ।

छोटी-छोटी अपनी अँगुलियाँ गरमाती है
अपनी साँस से वह
उसकी अँगुली जम गई है ।
कानों में बरफ़ के फूल ।

वापस जाना है उसे बर्फ़ीले रास्ते से
बिल्कुल असंग ।

पहला हिमपात एक शुरूआत
गँवाने की ।
टेलीफ़ोन-संस्कृति का पहला हिमपात

चमक रहा है उसके गालों पर शुरू ठण्ड
पहला हिमपात
जैसे वह आहत हुई ।