भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पहले बस ये था कि दिल में कुछ नज़र में और कुछ / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पहले बस ये था कि दिल में कुछ नज़र में और कुछ ।
अब इज़ाफ़ा[1] हो गया है इस हुनर में और कुछ ।

मौज[2] में फँसकर बदल देता है पानी भी मिज़ाज,
साहिलों पर और तेवर हैं, भँवर में और कुछ ।

मुझको डर है बढ़ न जाए और बीमारी मेरी,
मैनें देखा है निगाह-ए-चारागर में और कुछ ।

कुछ सहाफ़त[3] का मज़ा भी तो ज़माने को चखा,
चटपटी कर दे मिला दे इस ख़बर में और कुछ ।

जल्द लौटूँ आप की ये ज़िद ही काफ़ी है ’नदीम’,
क्या करूँगा रख के सामान-ए-सफ़र में और कुछ ।

शब्दार्थ
  1. वृद्धि
  2. लहर
  3. पत्रकारिता