भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पहाड़ी नदी / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


पहाड़ी नदी
कोसों चलती नित;
तुम सागर
तुमसे मिलने की
लगी लगन
रोकें राह पाषाण
किन्तु फिर भी
कठोर सीना चीर
सहती पीर
आँचल धरा के तल
लिखती विजय ही।
-०-