भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पहाड़ में आग / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जलते पहाड़ों के ऊपर
चमकता चाँद
चंद तारों के दंभ से घिरा
मुसकुराता है
और
वीरान रात में चीखते
चीड़ देवदार बुरांश के साथ
पहाड़ जल रहे होते हैं।
पर
हो ही जाती है सुबह
और लील जाता है सूर्य
आग को
रात को
चाँद को
जब पहाड़ जलते हैं
तो कुछ शेष नहीं रहता।