भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पहिले से भीगा मन / शकुन्त माथुर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज तो है हारा मन
चोट खाया मारा मन
चुप चुप सघन वन

बोझ भारी
दिखा कुछ कारगुजारी
सारा कुछ गोल-गोल
अब तो कुछ बोल मन

सभी कुछ रुका-रुका
मन तेरा थका-थका
चल-चल
पल-पल
कहाँ-कहाँ
तोड़ कर
जोड़ कर
पहुँच वहाँ
वहाँ, वहाँ

पहिले सा गीत बन
पहिले सा भीग मन