भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पांच शे’र / यगाना चंगेज़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शरबत का घूँट जान के पीता हूँ खूनेदिल।

ग़म खाते-खाते मुँह का मज़ा तक बिगड़ गया॥


इसी फ़रेब ने मारा कि कल है कितनी दूर।

एक आज-कल में अबस[1] दिन गँवायें है क्या-क्या।


ख़ुशी में अपने क़दम चूम लूँ तो ज़ेबा[2] है।

वो लगज़िशों पै[3] मेरी मुसकराये है क्या-क्या॥


बस एक नुक्तये-फ़र्ज़ी का[4] नाम है काबा।

किसी को मरकज़े-तहक़ीक़ का[5] पता न चला॥


उमीदो-बीमने[6] मारा मुझे दुराहे पर।

कहाँ के दैरो-हरम? घर का रास्ता न मिला॥



शब्दार्थ
  1. व्यर्थ
  2. मुनासिब
  3. लड़खडा़ने पर
  4. कल्पना-बिंदु का
  5. खोज के लक्ष्य का
  6. आशा-निराशा