भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पागल औरत / मोनिका कुमार / ज़्बीग्न्येव हेर्बेर्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 उसकी तपिश भरी नज़र
मुझे ऐसे जकड़ती है
जैसे जब कोई बाहों में कस लेता है।
वह स्वप्न के साथ गड्ड-मड्ड शब्द बोलती है।
वह मुझे अपनी ओर खींचती है।
वह ख़ुश होगी अगर तुम भरोसा रखकर
अपने छकड़े को किसी सितारे की ओर ले जाओगे।
बादलों को अपनी छाती से दूध पिलाते हुए
वह कोमल लगती है
लेकिन जब शान्ति उसे अकेला छोड़ देती है
तो वह समुद्र किनारे भागती और बाँहों को हवा में झुलाती है।

उसकी आँखों में झाँकने पर मुझे
अपने कन्धों पर दो देवता बैठे हुए दिखाई देते हैं :
एक पर पीला बदख्वाह वक्रोक्ति का देवता
और दूसरे पर ताक़तवर और प्यारा स्किज़ोफ़्रेनिया का देवता।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : मोनिका कुमार