भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पाटों के बीच / राम सेंगर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पिसना दो पाटों के बीच ,
ओफ़्फ़ !
त्रासदी कितनी नीच !!

तने हुए मुक्के पर
टाँग ले सवालों को,
धैर्य-धर्म की डफली
और नहीं पीट गला फाड़ कर ।
ड्योढ़ी पर खड़ा-खड़ा
गुलुर-गुलुर क्या करता,
चीर कर झपट्टों को
दे लातें ज़ोर से किवाड़ पर ।

पूँजी का दिया हुआ घाव नहीं भरने का
सुविधा के दोने को छुला नहीं माथे से
रबड़ी में मिली हुई कीच !
ओफ़्फ़ !
त्रासदी कितनी नीच !!

भभ्भड़ में बात नहीं
सिर्फ़ लोंडहाई है ,
काट त्यौरियों के इस
माथे पर पुरे हुए जाल को ।
भीतर का झन्नाटा
पक-पक कर लाल हुआ,
उड़ा हुआ सुर्रा है —
मछली ने पी डाला ताल को ।

नट-कँजड़ शैली में , पाँवों में बाँस बान्ध
वहीं-वहीं क़दमताल करना, मर जाना है,
रूपक दूजा कोई खींच !
ओफ़्फ़ !
त्रासदी कितनी नीच !!