भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पाणी रै पाण / विनोद कुमार यादव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पाणी री ई है
सगळी माया
सगळी कहाणी
पाणी है तो
जिनगाणी है
नीं फिरो गाणी-माणी

पाणी है तो
जीयां जूण
रूंख जिनावर
जड़-चेतन
सो कीं है

पाणी रै पाण ई
चालै
विधि रा विधान
देष रा संविधान
पाणी ई है
जको बचावै पाणी
मिनख रो।