भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पानी / चिन्तामणि जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गजब ताकत है
पानी में

बूँदों से नाला
नाले से दरिया
दरिया से सागर
सागर से बादल
बादल से बूँदों में
बदलता है
बीजों को पौधों
पौधों को वृक्षों
कलियों को पुष्पों
पुष्पों को फल-फसल
फसलों को सरस व्यंजन में
बदलता है

पानी से
जीवन चलता है

धुंध है
व्यवस्था विद्रूप है
आँखें फटीं हैं
पानी भर चुका है
अब रहने भी दे
तू नहीं दिखा पाएगा राह
ए खैरख्वाह
तेरी आँखों का
पानी मर चुका है।