भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पाया-ए-ख़िश्त-ओ-ख़ज़फ और गोहर से ऊँचा / 'फ़ज़ा' इब्न-ए-फ़ैज़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पाया-ए-ख़िश्त-ओ-ख़ज़फ और गोहर से ऊँचा
क़द यहाँ बे-हुनरी का है हुनर से ऊँचा

एक दिन ग़र्क़ न कर दे तुझे ये सैल-ए-वजूद
देख हो जाए न पानी कहीं सर से ऊँचा

माँगता किस से मुझे संग-ए-सर-अफ़राजी दे
कोई दरवाज़ा तो होता तेरे दर से ऊँचा

हम-क़दम है तपिश-ए-जाँ तो पहुँच जाऊँगा
एक दो जस्त में दीवार-ए-शजर से ऊँचा

एक बिगड़ी हुई तमसील हैं सारे चेहरे
कोई मंज़र नहीं मेयार-ए-नज़र से ऊँचा

धूप उतरी तो सिमटना पड़ा ख़ुद में उस को
एक साया के जो था अपने शजर से ऊँचा

बुलबुला उठने को उट्ठा तो मगर बे-चारा
रख सका ख़ुद को न दरिया के भँवर से ऊँचा

कैसी पस्ती में ये दुनिया ने बसाया है मुझे
नज़र आता है हर इक घर मेरे घर से ऊँचा

वो कहाँ से ये तख़य्युल के उफ़ुक लाएगा
आसमाँ अब भी नहीं है मेरे सर से ऊँचा

ख़ाक-ए-शिबली से ख़मीर अपना भी उट्ठा है ‘फज़ा’
नाम उर्दू का हुआ है इसी घर से ऊँचा