भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पारसनाथ / प्रभाकर गजभिये

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देख अतीत का स्वर्णिम इतिहास
मन हुआ बहुत उदास
सुदूर देशों तक व्यावसायिक हलचल
बेबीलोन के बाज़ारों में
पहुँची थी ढाका की मलमल
पर भारत का बुनकर
आज उजड़ गया है
पुश्तैनी धन्धे में भी
ख़ूब पिछड़ गया है
कोटा साड़ी रही है रो
अपना वैभव रही है खो
बहुराष्ट्रीय कम्पनियों की
अब खूब रेलम-पेल है
कुटीर-उद्योगों का तो
ख़तम हो रहा बस खेल है!