भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पावल प्रेम पियरवा हो ताही रे रूप / गुलाल साहब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पावल प्रेम पियरवा हो ताही रे रूप।
मनुआ हमार विआहल हो ताही रे रूप।।
ऊँच अटारी पिया छावल हो ताही रे रूप।
मोतियन चउक पुरावल हो ताही रे रूप।।
अगम धुनि बाजन बजावल हो ताही रे रूप।।
दुलहिन दुलहा मन भावल हो ताही रे रूप।।
भुज भर कंठ लगावल हो ताही रे मन।
गुलाल प्रभु वर पावल हो ताही रे पद।।