भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पिता होने की कोशिश / गुरप्रीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: गुरप्रीत  » संग्रह: आज की पंजाबी कविता
»  पिता होने की कोशिश


दुख
गठरी मेंढ़कों की
गाँठ खोलता हूँ
तो उछ्लते-कूदते बिखर जाते हैं
घर के चारों तरफ़

हर रोज़
एक नई गाँठ लगाता हूँ
इस गठरी में

कला यही है मेरी
दिखने नहीं दूँ
सिर पर उठाई गठरी यह
बच्चों को।

मूल पंजाबी से अनुवाद : सुभाष नीरव